Hindi Varnamala Chart, Akshar | Pdf Free Download 2022

बहुत से लोगों के मन में यह सवाल होता है कि हिंदी वर्णमाला क्या है? जिस भाषा के माध्यम से हम अपने विचार दूसरों के सामने रखते हैं और जो बोलते हैं वह ध्वनियाँ होती हैं। इन सबको व्यक्त करने के लिए हमें कुछ वर्णमाला की आवश्यकता होती है। वर्णमाला के माध्यम से हम अपने विचारों और भावनाओं को लिख सकते हैं और दूसरे लोगों को समझा सकते हैं। Hindi Varnamala Chart

Table of Contents

हिंदी वर्णमाला क्या है? | What is Hindi alphabet?

ध्वनियों को लिखने या समझने के लिए प्रतीकों का उपयोग किया जाता है, प्रतीकों को अक्षर कहा जाता है। वर्णमाला में भाषा की सबसे छोटी इकाई को अक्षर भी कहा जाता है। वर्णों के विशेष समूह को अक्षर कहते हैं। इसे हम अक्षर भी कहते हैं, जिसका अर्थ है। जो कभी नाश न हो वह अक्षर है। ये सभी अक्षर और अक्षर वर्णमाला बनाते हैं, जिसका उपयोग हम बोलने या लिखने के लिए करते हैं।

Hindi Alphabet (हिंदी वर्णमाला)

अंग्रेजी के विपरीत, हिंदी में भी अक्षरों को स्वर (स्वर) और व्यंजन (व्यंजन) के रूप में परिभाषित किया गया है। इस खंड में, हमने इसके वर्गीकरण के साथ-साथ संपूर्ण हिंदी वर्णमाला पर चर्चा की है। हिंदी वर्णमाला चार्ट या हिंदी अक्षरमाला में कुल 13 स्वर और 36 व्यंजन अक्षर हैं जिनकी अलग से चर्चा की गई है।

Hindi Alphabet- Vowel (स्वर)

वे शब्दांश, जिनके उच्चारण के लिए स्वतंत्र रूप से बोले जाने वाले किसी अन्य शब्दांश या शब्दांश की सहायता की आवश्यकता नहीं होती है, स्वर (हिंदी स्वर) कहलाते हैं।

Hindi Alphabet- Consonants (व्यंजन)

वे अक्षर जिनका उच्चारण स्वरों की सहायता के बिना नहीं हो सकता, व्यंजन वर्ण (Hindi Vyanjan) कहलाते हैं।  जैसे – क (क्+अ)

ड़
हिंदी वर्णमाला- स्वर
ई  ऐ 
अंअः 

Hindi Alphabet- Dependent Vowels (आश्रित स्वर)

मात्रा स्वर का एक रूप है। आश्रित स्वरों की संख्या जो स्वर का प्रतिनिधित्व करती है 11 है। लेकिन दृश्य रूप में मात्राओं की संख्या 10 है। Hindi Varnamala Chart

हिंदी वर्णमाला- मात्राएँ
ि
Hindi Varnamala in English
अ (a)आ (aa)इ (e)ई (i)उ (u)
ऊ (oo)ऋ (ri)ए (a) ऐ (ae)ओ (o)
औ (ao)अं (am)अः (a:)क (k)ख (kh)
ग (g)घ (gha)ङ (nga)च (ca)छ (chha)
ज (ja)झ (jha)ञ (nya)ट (ta)ठ (thh)
ड (da)ढ (dh)ण (n)त (t)थ (tha)
द(d)ध (dha)न (na)प (p)फ (fa)
ब (b)भ (bha)म (ma)य (y)र (r)
ल (la)व (v)श (sha)ष (shha)स (sa)
ह (ha)क्ष (ksh)त्र (tra)ज्ञ (jna)

Hindi Varnamala Chart

Hindi Varnamala Chart

Hindi Varnamala Chart, Akshar, Number |

Pdf Free Download


इनमें आपको कुछ अपवाद भी देखने को मिलते हैं, कुछ व्याकरण वर्णों की कुल संख्या 47 बताता है। इसमें 10 स्वर और 35 व्यंजन प्लस 2 दूसरी भाषा के व्यंजन z और f शामिल हैं। लेकिन अधिकांश 52 वर्णों और वर्णों की सूची को सही मानते हैं।

वर्णों के प्रकार

हिंदी वर्णमाला के अनुसार अक्षरों को मुख्य रूप से 2 भागों में बांटा गया है, जिनमें स्वर और व्यंजन आते हैं। Hindi Varnamala Chart

आवाज कौन है?

स्वर वे शब्द हैं जिन्हें हम खुलकर बोल सकते हैं। जिन अक्षरों के उच्चारण के लिए हमें किसी अन्य अक्षर की आवश्यकता नहीं होती, उन्हें स्वर कहते हैं। हिंदी वर्णमाला के अनुसार इनकी संख्या 13 मानी जाती है, लेकिन व्याकरण में उच्चारण की दृष्टि से यह 10 है।

स्वर – “ए, आ, ई, ई, यू, यू, ओ, ए, एई, ओ, ओ”

स्वरों का वर्गीकरण

स्वरों को बोलने के लिए हमें किसी आधार की आवश्यकता होती है, जिसके आधार पर इसे 4 भागों में बांटा गया है। Hindi Varnamala Chart

उच्चारण के आधार पर
जीभ से बोली जाने वाली
नाक या मुंह की आवाज
बोली जाने वाली आवाज

उच्चारण के आधार पर स्वरों का वर्गीकरण

उच्चारण के आधार पर इसे 3 भागों में बांटा गया है, जिसके आधार पर हम स्वरों का उच्चारण करते हैं।

हृस्व स्वर – इस प्रकार के स्वर उच्चारण में कम समय लगता है। जैसे ए, ई, यू
दीर्घ स्वर – दीर्घ स्वरों के उच्चारण में आप दो मात्राओं से अधिक समय लेते हैं, अर्थात् उन्हें हम द्विपद या दीर्घ स्वर कहते हैं। इसमें आ, ई, ऊ, ए, ए, ओ, औ आदि स्वर शामिल हैं।
प्लूट स्वर – ऐसे स्वर जिनका उच्चारण करने में अधिक समय लगता है, उन्हें प्लुत या त्रिमात्रिक स्वर कहते हैं। वे सबसे अधिक चिल्लाने या बुलाने और गाने के लिए उपयोग किए जाते हैं। जैसे – हे राम आदि। Hindi Varnamala Chart

जीभ से बोली जाने वाली

जीभ के माध्यम से बोलने के आधार पर स्वरों को निम्नलिखित तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है, जैसे:

अग्र स्वर – जिन स्वरों में बोलते समय जीभ के अग्र भाग का प्रयोग होता है, अग्र स्वर कहलाते हैं। उदाहरण – ई, ई, ए, ए।
मध्य स्वर– ऐसे स्वर जो जीभ के मध्य भाग को बोलने में प्रयुक्त होते हैं, मध्य स्वर कहलाते हैं। उदाहरण – ए
पश्च स्वर – इनका उच्चारण जीभ के पिछले भाग से किया जाता है। उदाहरण – आ, उ, ऊ, ओ, यू आदि।

नाक या मुंह की आवाज

नाक या मुख से बोले जाने वाले ऐसे स्वरों को हिन्दी वर्णमाला के अनुसार मौखिक स्वर कहते हैं। इसे बोलते समय मुंह और नाक से हवा निकलती है। उदाहरण के लिए – ए, एए, ई आदि। Hindi Varnamala Chart

बोली जाने वाली आवाज

मुख से बोले जाने वाले सभी स्वरों को इस श्रेणी में रखा गया है। इसमें वे सभी स्वर शामिल होते हैं, जिन्हें हम मुख के आधार पर बोलते हैं, उनकी संख्या सबसे बड़ी होती है। ओह, चलो, आदि।

व्यंजनों को निम्नानुसार वर्गीकृत किया जा सकता है:

व्यंजन किसे कहते हैं?

व्यंजन वे कहलाते हैं जिनमें स्वरों के बिना उच्चारण नहीं हो सकता। ऐसे सभी शब्दों को व्यंजन कहते हैं। प्रत्येक व्यंजन में एक अक्षर A होता है। उदाहरण के लिए, के + ए = ए, डी + ए = डी आदि।

हिंदी वर्णमाला के अंतर्गत व्यंजन की संख्या 33 मानी जाती है। यदि इनमें दोहरा व्यंजन जोड़ दिया जाए तो संख्या 35 हो जाती है। Hindi Varnamala Chart

व्यंजन स्पर्श करें

स्पर्शीय व्यंजन में व्यंजन ध्वनि के आधार पर वर्गीकृत किए जाते हैं। ये निम्न प्रकार के होते हैं:

गले के व्यंजन – जिनकी आवाज कंठ (गले) से निकलती है। उदाहरण के लिए – ए, बी, सी, डी, आदि।
तलव्य व्यंजन – इनकी आवाज तालू से निकलती है। उदाहरण के लिए – f, ch, j, jh, j।
मुर्धियन व्यंजन- जिनका उच्चारण मुख के भीतर से होता है। उदाहरण के लिए – t, th, d, dh, n आदि।
दंत व्यंजन – वे व्यंजन जिनका उच्चारण दांतों की सहायता से किया जाता है। उदाहरण के लिए – ता, ठ, द, ध, न। Hindi Varnamala Chart
ओष्ठ व्यंजन – ऐसा उच्चारण होठों की सहायता से किया जाता है। उदाहरण के लिए – पी, एफ, बी, बी, एम।

घोषणा द्वारा व्यंजनों का वर्गीकरण

घोष का अर्थ है, उच्चारण में स्वर-रज्जु में कंपन, यदि कोई उच्चारण हृदय से स्पंदन उत्पन्न करता है। ऐसे व्यंजनों को घोलत्व के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। जैसे – c, d, , j, jh, j, d, dh, n, d, dh, n, b, b, me आदि।

जाति के आधार पर वर्गीकरण

हिन्दी वर्णमाला के अनुसार प्राण का अर्थ वायु होता है। यहाँ वे व्यंजन जिनमें वायु का प्रयोग किया जाता है, अल्पकालीन व्यंजन कहलाते हैं। ऐसे व्यंजन में उच्चारण में मुख से थोड़ी मात्रा में वायु निकलती है। उदाहरण के लिए – k, c, ch, j, j, t, d, n, t, d, n, p, b, m आदि। Hindi Varnamala Chart

अंतिम व्यंजन

एक व्यंजन में, उच्चारण स्वर और व्यंजन के बीच स्थित होता है।

वाई – इसका उच्चारण तालु है।

र- इसका उच्चारण दन्तमूल है।

एल – इसका उच्चारण दंतमूल या गोंद है।

W- इसमें व्यंजन के उच्चारण के लिए दांत और निचले होंठ का उपयोग किया जाता है।

ऊष्म या संघर्षी व्यंजन

हिन्दी वर्णमाला में जब वायु किसी स्थान विशेष पर घर्षण द्वारा किसी व्यंजन का उच्चारण करती है तो उष्मा उत्पन्न होती है, ऐसे व्यंजन को गर्म या परस्पर विरोधी व्यंजन कहते हैं। Hindi Varnamala Chart

उदाहरण के लिए – श – तालू, श – मुर्धा और एच – स्वरयंत्र या कौवा आदि।

उत्क्षिप्त व्यंजन

बहरे जीभ को छूने से उकत्त व्यंजन में उच्चारण तेज होता है। उदाहरण के लिए, डी.

संयुक्त व्यंजन

दो व्यंजनों की मदद से संयुक्त व्यंजन बनाए जाते हैं। उदाहरण के लिए – के + के = के, टी + आर = त्रि और जे + जे = जी आदि।

व्यंजनों के बारे में अधिक पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें Hindi Varnamala Chart

अयोगवाहा वर्ण क्या हैं?

अयोगवाह अक्षर स्वर नहीं हैं। इसके उच्चारण व्यंजन की तरह हैं, in

जिसका उच्चारण स्वरों की सहायता से किया जाता है। ये व्यंजन भी नहीं हैं, इनकी गिनती स्वरों से होती है। इसमें अनुस्वर (•) और विसर्ग (:) स्वरों के साथ लिखे गए हैं। उन्हें लिखने के लिए मात्राओं का उपयोग किया जाता है। स्वर और व्यंजन दोनों के साथ

ग है।

स्वर और व्यंजन के साथ हिंदी वर्णमाला (हिंदी में वर्णमाला)

स्वर

अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ, अं, अः

स्वर की मात्राएँ: अ, आ ( ा), इ ( ि), ई ( ी), उ (ु), ऊ (ू), ऋ (ृ), ए (े), ऐ (ै), ओ (ो), औ (ौ)

अनुस्वर: अं (ं)
विसर्ग: अः (ाः)

व्यंजन

क, ख, ग, घ, ङ
च, छ, ज, झ, ञ
ट, ठ, ड, ढ, ण
त, थ, द, ध, न
प, फ, ब, भ, म
य, र, ल, व
श, ष, स, ह
क्ष, त्र, ज्ञ

Q1. हिंदी वर्णमाला में कितने व्यंजन होते है?

Ans. – हिंदी वर्णमाला में 36 व्यंजन होते है

Q2. हिंदी वर्णमाला में कितने स्वर होते है?

Ans. – हिंदी वर्णमाला में 13 स्वर होते हैI

Q3. हिंदी वर्णमाला के 52 अक्षर कौन कौन से हैं?

Ans. – Check Here

Q4. हिंदी वर्णमाला में स्वरों की कुल संख्या कितनी है?

Ans. – हिंदी वर्णमाला में स्वरों की संख्या 11 होती है.

hindi varnamala
hindi varnamala
hindi varnamala
hindi varnamala
hindi varnamala
hindi varnamala

Leave a Reply